SEO Content क्या है – 9 Best Practices

Last update May 10, 2024

इस पोस्ट में, आप सीखेंगे कि SEO Content क्या है और कैसे एक से ज्यादा practices का उपयोग करके search engine और users के लिए अपनी post को optimize कर सकते है।

Content का SEO करना यानि की SERPs पर अपनी visibility और ranking को बेहतर बनाने के लिए अपने content में keyword और relevant information का रणनीतिक उपयोग करना।

Keyword research, proper formatting, high-quality writing और meta tags optimization जैसे best practices को लागू करके, आप अपनी पोस्ट की visibility बढ़ा सकते हैं और अधिक organic traffic जोड़ सकते है।

SEO Content क्या है

SEO Content क्या है?

Search engine traffic को target करके लिखे गए content को SEO Content कहा जाता है। यह users द्वारा search किये गए specific keyword के around optimized है और इसमें blog posts, product pages और landing pages आमतौर पर होते है।

SEO Content क्यों महत्वपूर्ण है?

यदि आप चाहते हैं कि आपका content या post सर्च इंजन में high ranking करे और targeted traffic प्राप्त करे, तो इसे आपको SEO-optimized करना होगा।

इससे आपकी website या blog को बहुत सारे benefits मिलते है:-

  • Traffic और visibility बढ़ाता है = SEO content आपकी वेबसाइट को top search results में लाने के लिए मदद करता है। जिससे आप एक अच्छा content, products या services को users तक पंहुचा सकते है।
  • User Experience बढ़ाता है = Users को ध्यान में रखकर तैयार किया गया content हमेंशा  बेहतर अनुभव और अच्छा user engagement को पैदा करता है।
  • Trust और credibility बनाता है = High-quality, relevant content जो search results में top पर rank करते है, वह आपकी website को आपके niche में credible और authoritative source के रूप establish करती है।
  • Lasting value प्रदान करता है = Paid advertising के विपरीत, एक अच्छा SEO content का प्रभाव लंबे समय तक चलने वाला होता है।

SEO Content के प्रकार

Content के different forms हो सकते है, यह text, images, videos, audio, infographics या एक combination हो सकता है।

  • Blog Posts:- सबसे व्यापक रूप से उपयोग किया जाने वाला format है। यह text, image और video का combination हो सकता है। इस में news articles, educational, tech information और general information हो सकती है।
  • Static Pages:- आपकी वेबसाइट के static pages पर पाई जाने वाली information, जैसे की About Us, Disclaimer या contact form
  • Product pages:- Specific products या services का प्रचार करने वाले pages
  • Landing pages:- स्पष्ट रूप से PPC campaigns के लिए design किए गए pages या वह page जो users visit करते है तब जो पहेला दीखता है वह page

SEO Content के लिए Best Practices

SEO content बनाने के लिए इन practices का पालन करें:

  1. Keyword Research से शुरुआत करे
  2. Content में Keywords का प्रयोग करे
  3. Search Intent को समझे
  4. Topic को Complete Cover करे
  5. Internals और External Links को जोड़े
  6. On-page SEO पर काम करे
  7. Schema Markup जोड़े
  8. Content को Group में Categories करे

1. Keyword Research से शुरुआत करे

किसी भी topic पर content लिखने से पहेले आपको keyword research करना होगा। सबसे पहले user कोनसा keyword या query search कर रहा है वह आपको समझना होगा।

मेरे कहने का सीधा मतलब यह है की आपको अभी ध्यान देना है proper keyword research

Search box में users द्वारा कौन से keyword type किए गए है, यह पता चला तो दो प्राथमिक उद्देश्य पूरे हो सकते है:

  • आपको पता चल जाएगा कि users के लिए किस प्रकार का content बनाना है।
  • आपको पता चल जाएगा कि content को कैसे optimize करना है।

इसका सीधा असर आपकी वेबसाइट पर होगा जैसे की search engines में आपकी वेबसाइट का अच्छे rank पर दिखने की सम्भावना बढ़ जाएगी।

आपके keyword research का परिणाम तीन चीजों से होना चाहिए:

  • आप जिस main keyword को target कर रहे हैं उस पर निर्णय।
  • आपके primary keyword से संबंधित long-tail keywords का एक सेट ।
  • आपके primary keyword से संबंधित keyword का एक सेट।

आप इन्हें content SEO process के भाग के रूप में उपयोग करें, जैसे की:

  • आपके target keyword में आपका URL, page title और h1 heading शामिल होना चाहिए।
  • Long-tail keywords आपके subheadings में शामिल किए जा सकते है।
  • अन्य related keywords आपके subheadings और content के मुख्य भाग में शामिल किए जा सकते है।

2. Content में Keywords का प्रयोग करे

हर कोई जानता है कि आपका main keyword आपके title और h1 heading में दिखना चाहिए, लेकिन यह भी उतना ही महत्वपूर्ण है कि starting कुछ paragraph में अपने keyword का एक या दो बार उल्लेख करे।

इसके अलावा कुछ वेबसाइट ऐसी है जहां content part wise भी दिखने को मिलता है। जिसमे शुरुआत के part में content के related information होती है।

जिसे above the fold कहा जाता है, इसमें text information, image या video हो सकता है, जिससे हम page के content के बारे में अनुमान लगा सकते है की इसमें क्या हो सकता है।

जिसे above the fold कहा जाता है, इसमें text information, image या video हो सकता है, जिससे हम page के content के बारे में अनुमान लगा सकते है की इसमें क्या हो सकता है।

अगर किसी page या post में एक अच्छा short information वाला above the fold का उपयोग किया है, तो इसका सीधा असर यह होगा की जब search engine spiders आपकी वेबसाइट पर आएंगे तो इन्हे clues मिलेंगे की इस content में क्या कुछ मौजूद है।

Subheadings के लिए Related Long Tail keywords का उपयोग करे।

जब हम किसी specific keyword को target करते हैं, तो उसे बार-बार दोहराना spam में count होता है, इससे बचने के लिए आप content में उस keyword के variations का उपयोग करे।

ऐसा करने का एक अच्छा तरीका यह है कि आप अपने main keyword से संबंधित Long tail keywords ढूंढें और उन्हें subheadings में उपयोग करे।

Google search box में अपना main keyword टाइप करे और आपको different suggestions दिखाई देंगे तो उस पर ध्यान दें। ये आपके subheadings और content में शामिल करने के लिए बेहतरीन keywords है।

Google Autocomplete

Related keywords खोजने का दूसरा तरीका Google में main keyword खोजना और SERP में ‘People Also Ask’ section को देखना है।

People also ask scaled

Content में Related Keywords का उपयोग करे।

Main keyword के संबधित keywords का उपयोग करने के लिए आपको LSI keywords पर फोकस करना होगा। LSI का मतलब Latent Semantic Index है; सरल शब्दों में कहु तो, ये आपके primary keyword के समान अर्थ वाले word phrases है।

Rank Brain (Ranking algorithm के हिस्से के रूप में Google द्वारा उपयोग की जाने वाली machine learning technology) की शुरुआत के साथ, Google keywords के व्यापक अर्थ को समझने की कोशिश कर रहा है, जिसे ranking में ध्यान में रखा जाता है।

आप LSI keywords कैसे ढूंढते है?

आसान तरीका यह है कि आप Google search box में अपना main keyword खोजे, साथ में आपको उसके related और भी long tail keyword दिखेंगे। आप इसे LSI keywords समझे।

LSI keywords list example

इसके साथ ही जब आप SERP में keyword related पोस्ट ढूढ़ने के लिए scroll करेंगे तब आपको site list के बीच मे ‘Related Searches’ section दिखेंगे, वह भी LSI keywords है।

Related Searches example

SEO content में LSI keywords आपको quality content लिखने के लिए काफी हद तक उपयोगी होंगे। LSI keywords आपको और भी topic लिखने के ideas देते है।

3. Search Intent को समझे

Website पर content publish करने से पहले, आपको search intent को समझना होगा। दूसरे शब्दों में कहु तो, किसी दी गई search query के लिए users किस प्रकार का content चाहते है?

ऐसा करने का सबसे आसान तरीका Google का लाभ उठाना है क्योंकि (Google) पहले ही समझ चुका है कि users को different searches के लिए क्या पसंद है।

एक example से समझते है:

मान लीजिए कि आप ‘ऑन-पेज एसईओ क्या है’ के बारे में एक लेख लिख रहे हैं। पहला कदम इस शब्द के लिए Google पर खोज करना और पहले 10 परिणामों के featured snippet और meta descriptions को देखना है।

Analyze search intent

यदि आप उपरोक्त screenshot को करीब से देखेंगे, तो आप देखेंगे कि Google “ऑन-पेज SEO क्या है?” प्रश्न का सीधा उत्तर देने का प्रयास कर रहा है।

यह pattern हमें बताता है कि यदि आप इस पद के लिए rank प्राप्त करना चाहते है, तो आपको उस प्रश्न का सीधा उत्तर देना होगा। अगर हम यह सभी बातो का ध्यान रखे तो ही content का SEO सही तरह से होगा।

इससे क्या सीखना चाहिए?

इससे हमें यह सीखना चाहिए की कौन सी queries search हो रही है और हम users को queries related क्या दे सकते है।

पहले हम lengthy introductions लिखते थे ताकि readers उत्तर पाने से पहले उन्हें पढ़ने में अधिक समय व्यतीत कर सकें, लेकिन अब ऐसा नहीं है।

पहले उत्तर दें, users के intent को संतुष्ट करें, और फिर अधिक जानकारी देने के लिए अपने article का विस्तार करे।

4. Topic को complete cover करे

कई अध्ययनों से पता चलता है कि long-form content सभी search engines और social media networks में बेहतर performs करते है। लेकिन इसका मतलब यह नहीं है कि आपको एक word limit तक पहुँचने के लिए हजारों शब्द लिखने चाहिए।

SEO content में quality एक महत्वपूर्ण part है। यदि आपका article अच्छा है और लोगो को like और share करने को प्रेरित करता है, तो यह Google पर अच्छा rank कर सकता है, भले ही अन्य लोगो के पोस्ट लंबे हो।

मैं हमेशा long-form content को publish करना पसंद करता हूं क्योंकि यह SEO articles के लिए उपयोगी है। Users यही चाहते है और आनेवाले वक़्त में मेरे competitors यही करेंगे और बहुत जगह तो कर रहे है।

Long-form content को Optimize करे

Long-form articles को optimize करने के लिए एक अच्छा तरीका यह है की आप post के शुरुआत में table of contents का उपयोग करे ताकि users को content में navigate करने में मदद मिल सके।

Navigation को आसान बनाने के अलावा, Google search results में snippet के साथ sitelinks प्रदर्शित होने की संभावना भी बढ़ाते है।

5. Internals और External links को जोड़े

Internal linking भी SEO content का एक element है। Internal link से users को अपनी website पर देर तक रोक सकते है।

कोई भी users वेबसाइट पर तब आता है जब उसे किसी निश्चित विषय पर अधिक जानना हो, आप internal links को content के अंदर जोड़ कर उसे वेबसाइट पर ज्यादा समय तक crawl करा सकते है।

Internal link जोड़ते समय, meaningful anchor text का उपयोग करें ताकि crawlers को यह अच्छी तरह से पता चल सके कि link किया गया page किस बारे में है।

अन्य high-quality वाली websites पर external links जोड़ें।

अपने articles को link करने के अलावा, अन्य high quality websites या sources से linking करना एक अच्छा अभ्यास है, क्यूंकि:

  • वे Users को किसी विषय के बारे में अधिक पढ़ने में मदद करेंगे।
  • आप उस websites पर भरोसा करते हैं जिससे आप link करेंगे।
  • आप इससे compensation प्राप्त करने के साथ करते है (Google की नजर में link exchange करना spammy है)

External links के साथ इसे ज़्यादा न करें, लेकिन जब यह समझ में आए के कहा कब link spam नहीं है तब linking करने से न डरे।

6. On-Page SEO पर काम करे

SEO Content में On Page SEO महत्वपूर्ण role निभाता है। यह आपके Content को SEO-friendly बनाने में आपकी सहायता करेगा।

अपनी non-text content के साथ हमेशा text content का उपयोग करे।

Search engines किसी भी non-text content की तुलना में text content को अधिक समझ सकते हैं, इसलिए अपने page पर text content रखकर उनका काम आसान बनाएं, फिर भले ही आप non-text content को बढ़ावा दे।

उदाहरण से समझे, आपने किसी विषय के बारे में अच्छे infographics बनाए और इसे अपने blog पर publish करना चाहते है। तो उसमे केवल infographics को publish करने का प्रयास न करें; blog पर infographics की व्याख्या करने वाले text content रखने का प्रयास करे।

Content को पढ़ने में आसान बनाएं।

Content को अधिक सुलभ बनाने के लिए formatting styles लागू करे, विशेषकर उन users के लिए जो skim-read करना पसंद करते है।

  • Content में Short paragraphs रखें।
  • Content के important part को highlight करने के लिए Bold और Italic font style का इस्तेमाल करे।
  • चरणों की रूपरेखा के लिए lists का उपयोग करें।
  • अच्छे font का use करे जिससे content अच्छे से पढ़ने में मदद मिले।
  • Paragraphs के बिच में white space रखे।

Non-text elements को optimize करे।

जैसा कि ऊपर उल्लेख किया गया है, content के कई रूप हो सकते हैं और जरूरी नहीं कि वह text content ही हो। अपने content में non-text elements जोड़ते समय उसे proper optimize करे।

खासकर के images का उपयोग करते वक्त ध्यान रखे, content के अनुसार images होनी चाहिए।

  • File name friendly रखे। (यानी, SEO checklist.jpg न कि abc56.jpg)
  • ALT text का सही से use करे।
  • Image किस बारे में है वह image के निचे text में describe करे।

7. Schema Markup जोड़े

उपरोक्त steps के अलावा content का SEO करते वक्त आप schema markup का उपयोग करे ताकि search engines आपके content को अच्छे से समझ सके।

आप जिस प्रकार का content publish कर रहे हैं उसके आधार पर आप कई schema लागू कर सकते है। Articles, videos, products, reviews, recipes सबके लिए एक schema है।

पिछले कुछ महीनों में देखा गया है कि Structured data अधिक महत्व प्राप्त कर रहे है, और Google के अनुसार यह लंबे समय तक रहने वाला है।

इसलिए मैं आपसे सिर्फ यही कहूंगा की आप content का SEO करते वक्त schema markup का बहुत ध्यान रखे। आप Neil Patel के schema markup वाले ब्लॉग में इसको अच्छी तरह से समझ सकते है।

8. Content को Group में Categories करे

यह steps सीधे तौर पर content SEO से संबंधित नहीं है, लेकिन यह overall SEO के लिए अच्छा है। Group में content को categories करना, यानि की users के लिए webpage पर क्या information यह जानने को आसानी रहती है।

Google किसी page को crawl करते समय, मुख्य रूप से उस page पर पाई गई information में रुचि रखता है, लेकिन यह इस बात पर भी ध्यान देता है कि page कहाँ से संबंधित है।

दूसरे तरीके से कहु तो, आपको यह सुनिश्चित करने के लिए categories बनानी चाहिए और अपने pages को ऐसे structure करना चाहिए कि आपके site के menu और breadcrumbs में वह दिखाई दे।

इन सरल steps को follow करें:

  • जरूरत के हिसाब से categories बनाए।
  • Articles को categories में add करे।
  • Categories को optimize करे।
  • Categories को main menu में जोड़े। (उन्हें विषय के हिसाब से नाम दे)
  • सुनिश्चित करें कि breadcrumbs menu सभी users को parent categories पर navigate करने की अनुमति देता है या नहीं।

आपकी SEO Content Strategy क्या है?

जब आप नया content publish करते है तो आपको उपरोक्त सभी practices का पालन करना चाहिए, लेकिन आपके पास एक content strategy भी होनी चाहिए।

एक plan बनाएं जिसमें निम्नलिखित शामिल हो:

  • किस प्रकार content publish करना है।
  • कौन से keyword को target करना है।
  • इसे कब publish करना है।
  • इसे कैसे promote करे।

Content SEO पर चर्चा करते समय, यह समझना महत्वपूर्ण है कि सिर्फ मौजूदा content को optimize करना पर्याप्त नही है। आपके पास नियमित रूप से नया content तैयार करने का एक तरीका होना चाहिए।

आज के वक्त में कठिन competition है और आप competitor से आगे बढ़ना चाहते हो, तो आपको एक content marketing plan बनाना होगा और बिना किसी आलस किए उसका पालन करना होगा।

आप लगातार high quality content को पब्लिश करेंगे तो Google में आपकी ranking काफी हद तक सुधरेगी।

यह भी साबित हुआ है की जिस companies ने SEO content पर focus करके blog publish किये हे उन्हें अच्छी रैंकिंग मिली है।

आखिर में

On-Page SEO process में content SEO एक महत्वपूर्ण component रहा है। आपका target सिर्फ users और search engines को उनकी इच्छित information प्रदान करना है।

यह प्रक्रिया यह पता लगाने से शुरू होती है कि users क्या चाहते हैं और उसके हिसाब से हम उनके इरादे को संतुष्ट करने वाले content तैयार करते है।

Content का SEO करने के बाद content को publish करने से पहले यह सुनिश्चित करना चाहिए की main keyword content के टॉप में है और संबधित keywords (LSI keywords भी) आपके subtitles और content body में हे या नहीं।

अपने content को अच्छा बनाए, इसे पढ़ना और navigate हो सके ऐसा आसान बनाएं, और फिर इसे अधिक से अधिक readers की नज़रों में लाने के लिए promote करे।

यदि यहाँ बताये गए concepts में से कुछ को समझना कठिन लगता हो तो चिंता न करे। जैसे-जैसे आप का SEO में experience बढ़ता जायेगा, वैसे वैसे सब कुछ समझमे आता जायेगा।

मुझे उम्मीद है कि आपको SEO content post की जानकारी समझ आ गई होगी और content का SEO कैसे किया जाता है इसकी practices भी समझ आ गई होगी।