Technical SEO क्या है – Best 13 Technical SEO Checklist

इस पोस्ट में आप जानेंगे कि Technical SEO क्या है? इसकी best practices कोनसी है और उन्हें अपनी वेबसाइट में कैसे implement किया जाए।

SEO (Search Engine Optimization) एक लंबी प्रक्रिया है और पूरी प्रक्रिया में सबसे महत्वपूर्ण phases में से एक है technical SEO जो आपकी वेबसाइट के लिए बहुत important है।

SEO के इस भाग पर ध्यान न दिया जाये तो आपको बहुत बड़ा नुकसान हो सकता है, में तो यही कहुगा की technical SEO पर पूरा ध्यान दिया जाए तो सब कुछ ठीक होगा।

आईये अब जानते है की technical SEO क्या है, इसे कैसे किया जाता है और इस पर ध्यान देने से हमारी website पर क्या effect पड़ता है।

Technical SEO क्या है (What is Technical SEO in Hindi)

Technical SEO का तात्पर्य किसी website के technical aspects में सुधार करना है ताकि search engines bots उस website के pages को अच्छे से crawl और index कर सके।

इसे technical नाम दिया गया है क्योंकि इसका वेबसाइट के content से बहुत कम लेना-देना है, इस SEO को मुख्य रूप से एक website के infrastructure में सुधार करने के लिए काम में लिया जाता है।

Technical SEO कैसे करे?

यहाँ आप जानेंगे की Technical SEO में किस point पर ध्यान देना है, जिससे search engine bots हमारी website को अच्छे से crawl और navigate कर सके।

1. Domain Name चुने

बहुत से लोग इस बात को लेकर confuse होते है कि अपने domain के सामने www का उपयोग करें या नहीं, लेकिन में आपको बतादू की यह आप पर निर्भर है और इससे कोई SEO लाभ नहीं मिलने वाला है। मुख्य बात यह है कि आप search engines को अपने domain name के बारे में सूचित करें और अपने निर्णय पर टिके रहे।

2. Sitemap Add करे

XML Sitemap create करना और submit करना strategic SEO के सबसे महत्वपूर्ण components में से एक है, sitemap का उपयोग Google और अन्य search engines को site structure दिखाने के लिए किया जाता है।

Sitemap के लिए आप Google sitemap documentation को पढ़ सकते है ताकि आपको sitemap के बारे में सही से पता चल पाए।

वैसे तो search engines bots इसके बिना भी आपकी site को crawl कर सकते है, लेकिन site अच्छे से crawl हो सके, bots आपकी site में अच्छे से navigate कर सके और site का structure अच्छे से समझ सके इस लिए sitemap होना जरूरी है।

हालांकि, वे आपकी वेबसाइट के hierarchy को search engines में स्थापित करने में मदद करते हैं, जिससे वेबसाइट के उच्च रैंकिंग की संभावना में सुधार होता है।

यदि आप WordPress का उपयोग कर रहे हैं, तो आप Yoast SEO plugin या Rank Math SEO plugin का उपयोग करके automatically आप वेबसाइट का XML sitemap बना सकते है।

अब आपको इस XML Sitemap को Google Search Console (GSC) में submit करना है।

  • Google Search Console पर जाएँ और Sitemap button दबाएँ
  • “Add New Sitemap” field में sitemap file add करे
  • आखिर में Submit button पर click करके इसे submit करे

अब Google जल्द ही इन्हे crawl करेगा और index करेगा, जिसे आप अपने website उन सभी pages और post को देख पाएंगे जो आपने sitemap में add किया था।

3. Robots.txt पर ध्यान दे

Sitemap submit हो जाने के बाद अगला काम Robot.txt file को check और optimize करना है, Robots.txt एक text file है जो आपकी वेबसाइट की root directory का हिस्सा है।

यह file search engines को clear instructions देती है कि वेबसाइट के किन pages को bots द्वारा crawl और index किया जाना है और किन pages को नहीं।

Robots.txt file को बनाना आसान है और यह एक बहुत ही सरल format का उपयोग करता है, हो सकता है कि आपको अधिकांश उदाहरणों में इसमें कोई बदलाव करने की आवश्यकता न हो।

यहाँ पर आपको बस एक बात का ध्यान रखना है की आपका कोई page, जैसे की main landing page जहा आप अपने products या services बेच रहे हो वहा पर तो crawl या index करने में search engine bots को कोई तकलीफ तो नहीं हो रही।

4. Crawl Errors पहचाने

Technical SEO में कोई भी technical काम error बिना नहीं होता, आपको अपनी वेबसाइट की सभी प्रकार की errors पर ध्यान देना होगा और उसमे सबसे ज्यादा crawl error पर ध्यान देना होगा।

यदि crawling और indexing errors की पहचान नहीं की जाती है, तो Google साइट को ठीक से index नहीं करेगा और आपकी वेबसाइट की ranking पर भी negative effect पड़ेगा।

Crawl errors को identify और fix करने के लिए आपके लिए internet पर कई tools उपलब्ध है और Google Search Console उनमें से सबसे प्रमुख टूल है।

आप URL inspection tool और Index Coverage report का इस्तेमाल करके अपनी वेबसाइट की सभी errors का पता लगा सकते है।

5. Site Structure ठीक रखे

Website का menu और structure एक बड़ा SEO element है, यह website visitors के साथ जुड़ने की संभावना होती है यदि वे कम क्लिक में अपनी जरूरी इनफार्मेशन वेबसाइट पर मिल जाती है तो engagement rate बढ़ जाएगा। एक user-friendly website से search engine को उसे crawl करने में और index करने में काफी मदद मिलती है।

ध्यान रखें कि Google वेबसाइट की समीक्षा करते समय वेबसाइट के menu और general layout को ध्यान में रखता है, इसलिए में आप से यही कहुगा की आप user के mind में set हो जाए वैसे ही website structure रखे।

6. Website Mobile-Friendly रखे

Google ने Mobile-First Index की शुरुआत कर दी है, क्यूंकि अब ज्यादातर users mobile से ही search करते है। वैसे भी आज के समय में mobile users की संख्या काफी हद तक बढ़ चुकी है।

Mobile-friendly website भी technical SEO का एक part है, जो user engagement तो increase करता है साथ ही आपकी ranking में सुधार करता है।

Mobile-friendly website set up करने के लिए एक निश्चित मात्रा में technical knowledge और expertise की आवश्यकता होती है। आपको Google के free Mobile-Friendly Testing Tool में अपनी वेबसाइट की mobile-friendliness की जांच करनी होगी।

यदि आपकी वेबसाइट मोबाइल उपयोग के लिए अनुकूलित नहीं है, तो आपको बहुत ध्यान रखना पड़ेगा, अपने mobile SEO पर काम करते समय यह बाते याद रखे:

  • आपकी mobile website और desktop website में एक ही content होना चाहिए। Google मोबाइल वेबसाइट को उनकी mobile content के आधार पर rate करता है। इसलिए, यह important है कि आपके desktop पर मौजूद कोई भी content मोबाइल site पर भी होनी चाहिए।
  • Lower mobile conversion rate (compared to the desktop) होना आम बात है, लेकिन इसका मतलब यह नहीं है कि आपको अपनी मोबाइल वेबसाइट का SEO optimization नहीं करना चाहिए।
  • आपकी mobile site 3 sec. से भी कम समय में open होनी चाहिए और आपको मोबाइल पर किसी भी प्रकार के popup add करने से बचना चाहिए।
  • यदि आपके पास एक responsive website है तो आपको वास्तव में First Mobile Index के बारे में सोचने की ज़रूरत नहीं है।

7. Broken Links ठीक करे

आपको अपनी वेबसाइट के broken links के बारे में ज्यादा सोचने की जरूरत है क्योंकि वे कभी भी आपकी वेबसाइट रैंकिंग को प्रभावित कर सकते है।

Broken links से user experience पर भी effect करता है और SEO पर भी impact कर सकता है, इसीलिए आपको अपनी वेबसाइट पर broken links का पता लगाना है और solve करना है।

इसके बाद, आपकी वेबसाइट पर missing links जिन्हें Google द्वारा index नहीं किया गया है उसकी भी पहचान करने की है, इसका data आपको Google Search Console Index Report से पता चल जाएगा।

आप Ahrefs या Internet पर मौजूद दूसरे broken link checker tools का उपयोग करके आपके website के internal links और external links के बारे में पता लगा सकते है।

8. HTTPS On रखे

क्या आप जानते है 60% से ज्यादा internet users यह सोचते है कि नए कानून उनके rights की रक्षा करने में capable नहीं हैं? शायद ही कोई mystery है कि Google यह सुनिश्चित करने में सख्ती से लगा हुआ है कि उसके users की privacy सुरक्षित है क्योंकि सुरक्षा हमेशा उनके लिए high priority रही है।

इसलिए, 2014 में tech giant ने users के लिए एक secure connection पेश करने के लिए HTTPS को ranking signal के रूप में पेश किया।

वेबसाइट के लिए एक SSL install करना आपके users के लिए एक trust create कर सकता है, इसमें वेबसाइट HTTP के बजाय HTTPS में open होगी जो security प्रदान करती है।

यह इस बात को सुनिश्चित करता है कि username, password और personal data आपकी साइट से server पर transfer किया गया कोई भी data को encrypted किया गया है।

पहेले केवल eCommerce websites के लिए SSL security certificate होना अनिवार्य था, हालाँकि internet fraud बढ़ने की वजह से यह SSL को सभी प्रकार की website पर install करना compulsory कर दिया गया है।

अगर आप technical SEO के बारे में बता रहे सभी blogs या websites को चेक करेंगे तो यह SSL security certificate का topic उन सब में मिलेगा, तो आप समझिए की यह कितना important है।

9. Loading Speed सुधारे

अगर आपकी वेबसाइट कुछ ही सेकंड में लोड नहीं होती है, तो आपको high exit rate के परिणामों का सामना करना पड़ेगा। इसे ध्यान में रखते हुए, Google अब एक web-page पर user experience को rate करने और SERP के अनुसार वेबसाइट को rank करने के लिए Core Web Vitals को एक माप के रूप में मानता है।

The Core Web Vitals में तीन specific page speed और user interaction माप होते है, जो हैं:

  • Largest Contentful Paint
  • First Input Delay
  • Cumulative Layout Shift

Core Web Vitals आपके page के overall UX को आकार देने का Google का तरीका है, आप अपने Google search console account के enhancement section में इसका data collect कर सकते है या आप direct PageSpeed Insights में जाकर URL submit करके data collect कर सकते हो।

10. Structured Data add करे

पिछले कुछ वर्षों में structured data विशेष रूप से relevant हो गया है, क्योंकि इसका व्यापक रूप से Google द्वारा search results में उपयोग किया जाता है।

Structured data मूल शब्दों में कहे तो एक code है जिसे आप अपने web pages पर apply कर सकते है, जो search engine crawlers को आपके web pages में रहे content को सही तरह से समझ ने में help करता है।

Structured data आपकी वेबसाइट के content को search engine को समझाने के लिए है, इसलिए आपको इसे सही करने के लिए वेबसाइट पर एक code apply करना होगा और यही कारण है कि यह technical SEO का हिस्सा है।

चाहे featured snippets हो या information graph entries, यह आपको SERP में अपनी listing की उपस्थिति को बढ़ावा देने और आपके organic CTR को maximize करने में मदद करेगा।

Content explain करने के लिए ऐसे कई तरीके हैं जिनमे आप structured data का उपयोग कर सकते है, इसमें tips, posts, work listings, activities जैसी कई common चीजे है।

11. Canonical URLs का उपयोग करे

Canonical URLs Google को यह बताने का एक आसान तरीका है कि आपकी वेबसाइट को index करते समय किस web page को considered किया जाना चाहिए।

Canonical URLs का concept बहुत सीधा है, यह केवल Google को यह बताने का एक तरीका है कि canonical link वाला content original है।

Technical SEO की best practices के अनुसार, आपकी वेबसाइट के प्रत्येक page के लिए एक canonical URL होना चाहिए।

इसके लिए आपको अपनी सभी post और page के <head> section मे <link rel=”canonical” href=”your web page url”> tag को जोड़ना होगा।

अन्य technical SEO components की तरह, सही canonical URL generate करने के लिए अपनी वेबसाइट को सही ढंग से सेट करने के बाद आपको कुछ और करने की आवश्यकता नहीं है।

आपको canonical tag का उपयोग करना चाहिए, खासकर करके तब जब आपके पास identical content वाले एक से अधिक page है। यह आपकी वेबसाइट पर अन्य वेबसाइट से 3rd party content publish करते समय duplicate content conflicts को रोकने में मदद करता है।

12. Hreflang tag का उपयोग करे

Hreflang tag Google को यह दिखाता है कि आप किसी particular page पर किस language का उपयोग कर रहे हो, technical SEO ही search engines को आपके content को उनकी search preferred language में प्रस्तुत करके user को support करने में मदद करता है।

यह hreflang tag विशेष रूप से तब उपयोगी है जब आप विभिन्न देशों में अपनी सेवाएं प्रदान कर रहे हो, यह users को सही content दिखाने मे मदद करता है और duplicate content और indexing problems से बचकर आपको अपने SEO को customize करने मे भी मदद करता है।

13. Webmaster tools में submit करे

Technical SEO तब तक अधूरा है जब तक अपनी वेबसाइट को webmaster tools में submit न करे। आपको अपनी वेबसाइट Google search console, Bing webmaster tools और Ahrefs webmaster tool जैसे tools में submit करनी होगी।

यह tools आपको technical SEO से संबंधित विभिन्न कार्यों में आपकी सहायता कर सकते है, जैसे की robots.txt file को submit करना, XML sitemap को submit करना, keyword track करना, indexed backlinks check करना और crawl errors को identify करके और उनको solve करना।

Technical SEO Checklist in Hindi

मुझे लगता है की आपको अब यह पता चल गया होगा की technical SEO क्या है और यह On-page SEO और Off-page SEO से कितना अलग है।

यदि आपको लगता है कि आप अपनी वेबसाइट के लिए technical SEO शुरू करने के लिए तैयार हैं, तो यहां में आपको फिर से technical SEO checklist के जरिए बता देता हु की आप कैसे अपने website को customize करेंगे।

Technical SEO Checklist in Hindi:

  1. Domain Name चुने
  2. Sitemap Add करे
  3. Robots.txt पर ध्यान दे
  4. Crawl Errors पहचाने
  5. Site Structure ठीक रखे
  6. Website Mobile-Friendly रखे
  7. Broken Links ठीक करे
  8. HTTPS On रखे
  9. Loading Speed सुधारे
  10. Structured Data add करे
  11. Canonical URLs का उपयोग करे
  12. Hreflang tag का उपयोग करे
  13. Webmaster tools में submit करे

आपने क्या सीखा

Technical SEO में several checks और settings शामिल हैं जिन्हें आपको streamline करने की आवश्यकता है ताकि search engines आपकी वेबसाइट को आसानी से crawl और index कर सके।

इस SEO की खूबी यह है कि on-page और off-page SEO के विपरीत, यह ऐसा कुछ नहीं है जो लगातार ध्यान देने की मांग करता है।

आप इसे एक बार proper तरीके से customize कर दे तो समय-समय पर SEO audit को छोड़कर इसमें खास ध्यान देने वाली कोई चीज नही है।

उम्मीद करता हूँ की आपको मेरी यह technical SEO क्या है पोस्ट informative लगी होगी, आप इसे उन लोगो के साथ Facebook, Twitter और Instagram के जरिए जरूर share कीजिये जिनको यह सिखने की बहुत जरूरत है।

Leave a Comment