On-Page SEO क्या है? – What is On Page SEO in Hindi

On-Page SEO की मदद से हम अपनी वेबसाइट और ब्लॉग को rank करवा सकते है। Website को Off-Page SEO और On Page SEO दोनों की आवश्यकता होती है। जब आप search bar में अपने टॉपिक का keyword डालते हैं तो उससे संबंधित कई वेबसाइट दिखाई देती हैं।

ये सभी वेबसाइट और ब्लॉग SERP में तभी दिखाई देती हैं जब proper SEO optimization किया गया हो। Internet पर लाखों वेबसाइट और ब्लॉग हैं और इसमें हर दिन हजारों ब्लॉग और वेबसाइट add हो रहे हैं।

अपनी वेबसाइट को इन लाखों वेबसाइटों की सूची में स्थान दिलाना बहुत कठिन है। अगर आप SERP के टॉप 100 पेज में रैंक नहीं करते हैं तो आपको वेबसाइट पर traffic नहीं आने की समस्या होती है।

Quality content SERP (search engine results page) में दिखाई देती है और traffic भी प्राप्त करती है। अगर किसी वेबसाइट को सर्च इंजन में रैंक करना है तो On page SEO और Off page SEO करना जरूरी है।

पिछले कुछ वर्षों में On page के नियम बहुत बदल गए हैं। क्योंकि Google हमेशा अपने readers को अच्छे परिणाम देना चाहता है। पहले हम Google में किसी keyword पर सर्च करते थे तब हमें सही रिजल्ट नहीं मिलता था।

उस समय SERP में दिखने वाली वेबसाइट कई कीवर्ड या टॉपिक से अलग थी। धीरे-धीरे Google ने नए algorithms launch किए और अब काफी होशियार हो गए है। हमें इन algorithm से जुड़े रह कर ranking बढ़ानी है।

इस के लिए आपको On-Page SEO पर focus करना होगा और इसे सही तरीके से करेंगे तो ranking में सुधर होगा। SEO की जानकारी रखने वाला व्यक्ति इन बातों को समझ पाएगा। जबकि Beginners को पहले SEO को समझना होगा।

On-Page SEO क्या है – What is On Page SEO in Hindi

On Page SEO उन सभी चीजों के बारे में है जो आप एक वेबपेज के अंदर कर सकते हैं ताकि वेबसाइट SERP में rank कर सके।

On Page SEO को On Site SEO के नाम से भी जाना जाता है।

इसका मतलब है कि वेबसाइट के पेज को इस तरह से optimize करना कि वह SERP में rank कर सके और Traffic प्राप्त कर सके। Subject related title, related image, linking यह सभी On page SEO में आता है जिसे proper optimize करने की आवश्यकता है।

Quality of the content, उसका structure और link building को भी यहां ध्यान में रखा जाना है। वेबसाइट या ब्लॉग पर जितना अधिक interaction और engagement होगा, user उतना ही अधिक interact करेगा।

आपकी साइट पर जितने अधिक user होंगे, user experience उतना ही बेहतर होगा। यह सब तब होगा जब On-Page SEO ठीक से होगा।

On Page SEO कैसे करे – On-Page SEO Techniques in Hindi

On page में बहोत techniques है जिनका उपयोग आप अपनी वेबसाइट को SERP में रैंक करने के लिए कर सकते हैं। यहां वो techniques दी गई हैं जिनका आपको अपनी वेबसाइट में उपयोग करने की आवश्यकता है।

1. Title Tag

जब आप किसी वेब पेज को नाम देते हैं तो उसे title कहते हैं। Title unique होना चाहिए और उसमें वेब पेज के बारे में जानकारी होनी चाहिए।

Title में वेब पेज के विषय से संबंधित keyword होना चाहिए, title की लंबाई 50 से 70 characters होनी चाहिए। SERP में बड़े आकार और रेखाओं में आने वाले शब्द title हैं और यह blue रंग में दिखाई देता है।

Google ने तो कहा है कि There is No Limit on Title Tag Length

2. Header Tag

Header tag का उपयोग topic और content में रही information के आधार पर करना चाहिए।

Content title के लिए H1 Tag का उपयोग किया जाता है और content में point को स्पष्ट करने के लिए H2 से H6 tag का उपयोग subheading के रूप में किया जाता है।

बड़े post में H1 से H6 और छोटे post में H1 से H3 tag का उपयोग तो करना ही चाहिए।

ध्यान रहे कि H2 से H6 Tag में Keyword का ज्यादा इस्तेमाल नहीं करना है।

3. URL या Slug

On-Page SEO में URL structure महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है। URL में वेबसाइट का address और शब्दों का संयोजन होता है। URL में सही keyword होना चाहिए और बहुत लंबा नहीं होना चाहिए।

SEO की नजर में लंबे URL का नकारात्मक प्रभाव पड़ता है। URL relevant होना चाहिए, जैसे SEO के प्रकार पर content लिखते समय URL में SEO के प्रकार शब्द होने चाहिए।

4. Image Alt Text

Post में image का उपयोग करने से post अधिक आकर्षक लगती है और post की सभी image में Alt text होना चाहिए। Alt text किसी image के बारे में search engines को अधिक जानकारी प्रदान करता है।

Alt text post के विषय से संबंधित होना चाहिए। Image के लिए Alt Text की लंबाई 100 characters से अधिक नहीं होनी चाहिए। Image optimization भी सही तरीके से होना चाहिए। क्योंकि heavy image साइट की लोडिंग स्पीड को बढ़ा देती है।

यदि image की quality, size और format गलत हैं तो पेज पर negative effect पड़ता है। Image optimization के कई लाभ हैं जैसे ranking बढ़ना, बेहतर user experience और page की fast loading स्पीड।

5. Meta Description

Meta description page में रहे content को summarize करता है जिससे user को page के बारे में पता चल सके। SERP में title और URL के नीचे meta description दिखाई देता है।

प्रत्येक पोस्ट या पेज के लिए meta description अलग अलग होता है। Meta description 50 से 160 अक्षरों तक लिखा जा सकता है और इसमें content से related keyword भी होने चाहिए।

6. Website Speed

On Page SEO में वेबसाइट की loading speed important factor है। धीमी गति से लोड होने वाला page high bounce rate की ओर ले जाता है।

Users हमेशा चाहते हैं कि site 1-3 सेकंड में openजाए और यदि ऐसा नहीं होता है तो user दूसरी वेबसाइट पर चला जाता है। आप वेबसाइट की speed बढ़ाना चाहते हैं तो image size, CSS और JavaScript files को minimize करे।

7. Responsive Theme

वेबसाइट के लिए theme responsive, lightweight और attractive होना चाहिए। Theme तेजी से लोड होनी चाहिए जो user experience को बढ़ाती है।

Responsive theme Mobile, PC-Desktop, Laptop और tablet के आकार में फिट बैठता है। आजकल मोबाइल का ज्यादा इस्तेमाल होता है इसलिए Mobile Responsive theme का इस्तेमाल करें।

8. Internal Links

Post के अंदर कुछ शब्दों पर आपको जो लिंक दिखाई देते हैं, उन्हें internal links कहा जाता है। Internal links user को help करते हैं और इसकी वजह से वेबसाइट के भीतर user आसानी से नेविगेट कर सकते हैं।

Internal link वेब साइट को समझने और पेज को इंडेक्स करने में search engine को बहुत मदद करता है। Page को उसकी category या sub category के page से link back करना चाहिए ताकि crawlers आसानी से read कर सके और index कर सके।

9. External Links

External link का दूसरा नाम Outbound link है। On-page SEO techniques का सबसे महत्वपूर्ण हिस्सा Outbound link है। अन्य वेबसाइटों पर comments, guest posts और profiles द्वारा बनाए गए link को SEO की भाषा में external links कहा जाता है।

High DA PA वाली वेबसाइट पर external link बनाने से आपकी वेबसाइट को रैंक करने में मदद मिलती है। आपकी वेबसाइट को उसके विषय के related वेबसाइट और विकिपीडिया जैसी वेबसाइटो से लिंक होना चाहिए।

10. Keywords

Keywords सबसे महत्वपूर्ण element है और लोगों को इस बात से सावधान रहना होगा कि वे कौन से विषय खोज रहे हैं और उस विषय का keyword volume क्या है।

Keyword को 200-300 शब्दों में 2-3 बार प्रयोग करें ताकि वेबसाइट एल्गोरिदम द्वारा दंडित न हो। इंटरनेट पर कई paid और free keyword research tool हैं जो आपकी मदद कर सकते हैं।

अगर website या blog नया है तो long tail keywords का इस्तेमाल करें जो बहुत काम आएगा। Website या blog पर traffic आने के बाद आप medium और short keywords का इस्तेमाल कर सकते है।

On-Page SEO क्यों जरूरी है – Why On Page SEO is Important

On page SEO महत्वपूर्ण है क्योंकि यह वेबसाइट के value, user experience और visitors के साथ engagement को बढ़ाता है। On page ऑप्टिमाइज़ेशन में केवल कीवर्ड महत्वपूर्ण नहीं हैं, बल्कि अन्य बातों का भी ध्यान रखना चाहिए।

SEO friendly and plagiarism free content, link building, good conversation On page में आते हैं। यदि वेबसाइट में content users के लिए helpful है तो users अक्सर आएंगे और इसे share भी करेंगे।

On page के सभी factors को समझें क्योंकि Google में रैंक करने के लिए यह सभी महत्वपूर्ण है।

एक खास बात वेबसाइट के लिए On Page और Off Page दोनों महत्वपूर्ण हैं।

आखिर में

यहाँ मैंने आपको On-Page SEO क्या है उसके बारे में पूरी जानकारी देने की कोशिश की है। यदि आपको पोस्ट के बारे में कोई प्रश्न है तो मुझे comment में बता सकते हैं ताकि मैं सुधार कर सकू। अगर आपको मेरी पोस्ट पसंद आई हो तो आप Facebook, Instagram, WhatsApp पर share कर सकते है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.